Posted on Leave a comment

Motherhood – A Woman’s Fulfilment

Adulating mother as a goddess, and god as mother is an inherent aspect of the vedic civilisation. The underpin of vedic dharma is ‘mātṛvat paradāreṣu – all women are mother 1 ’ and ‘mātṛa devo bhava 2 – mother is god (to be served)’. The unbroken living traditions bow down to the ideal cosmic mother who transcends herself becoming our personal mother. Mother being the constant thread that gives the most precious ‘life, body, and intelligence’, is also revered as a direct umbilical cord (thread) that connects us to divinity.


1 Even a husband-wife relationship is expected to evolve to the level of adoring each other in motherly affection.


2 taittirīya 1.11


Mother in Sanskrit is etymologically named as ‘mātṛ’ (मातृ), ‘mātā’ or ‘ammā or ‘ambā’, ‘janani’ – which refers to the divine mother or personified energy of the supreme; ‘mātṛ’ also means the one who possesses true wisdom. One’s living mother is literally god for that man; while motherhood is associated with the fulfilment of being a woman.

The Vedas – Devī Sūkta, Rātrī Sukta, and Ṛg Veda give her the most exalted status. By worshipping God as the divine mother, not only the motherly traits such as tenderness, forgiveness, are attributed to the divine, but also her fathomless grace and affection, her patience as wide as skies, is sought unreservedly.

Mother as Gods & Creation

The feminine is accepted as the mother of gods, the womb of cosmic creation. In a temple, the living deity is hosted in a sacred-womb space called the garbha gṛiha, thus the temple is regarded as the mother itself, the pristine source of highest life-energy.

In vedic culture, the whole motherhood is elevated as the divine principle, in itself, not only is the mother deemed sacred. The life-bestowing maternal power is glorified in ancient vedas repeatedly, wherein all that is sacred, pure and powerful is given the status of a mother. She is identified with several honorifics such as Aditi3, the mother of devas, emperors, sages, as Sarasvatī, the goddess and celestial waters, as Uṣā, the dawn mother, and Pṛthvī, the earth mother.


3 Aditi literally means ‘boundless, non-binding goddess, who affectionately releases the aspirant from worldly clutches.


आपो अस्मान्मातर: शुन्धयन्तु घृतेन नो घृतप्व: पुनन्तु ।
विश्वं हि रिप्रं प्रवहन्ति देवीरुदिदाभ्य: शुचिरा पूत एमि ॥

āpo asmānmātara: śundhayantu ghṛtena no ghṛtapva: punantu ।
viśvaṃ hi ripraṃ pravahanti devīrudidābhya: śucirā pūta emi ॥

“O Mothers! (As water) Purify us with your compassion, understanding and enlightenment; for women cleanse us from all our sins and defects. We come out firm, pure and noble from their blessed company.”

– Ṛg Veda 10.17.10

क्षत्राय त्वं श्रवसे त्वं महीया इष्टये त्वमर्थमिव त्वमित्यै ।
विसदृशा जीविताभिप्रचक्ष उषा अजीगर्भुवनानि विश्वा ॥

kṣatrāya tvaṃ śravase tvaṃ mahīyā iṣṭaye tvamarthamiva tvamityai ।
visadṛśā jīvitābhipracakṣa uṣā ajīgarbhuvanāni viśvā ॥

“O dawning Mother! May you inspire us into the path of valour and protection of society; inspire us to do vigorous efforts for the well-being of all, and to conduct selfless noble deeds (yajna). May you illuminate us to seek economic prosperity for all through noble means. May you light us to enlighten the society with wisdom.”

– Ṛg Veda, 1.113.6

माता देवानामदितेरनीकं यज्ञस्य केतुर्बृहती वि भाहि ।
प्रशस्तिकृद्ब्रह्मणे नो व्युच्छा नो जने जनय विश्ववारे ॥

mātā devānāmaditeranīkaṃ yajñasya keturbṛhatī vi bhāhi ।
praśastikṛdbrahmaṇe no vyucchā no jane janaya viśvavāre ॥

“O Mother of gods, peer to Aditi, illuminator of the sacrificers, mighty Uṣā, do shine forth; approving of our prayer, dawn upon us. May you, who are cherished by all, make us illustrious among the people.”

Womanhood as Mother

Amusingly, the appellation of woman as a mother is accorded not only to a woman who has a physical child but to a female in general – be she a child, girl, youth or ageing – for a woman acts as a mother constantly in ways beyond the biological motherhood. It is indeed a woman in whom lies the seed power (sakti) to turn a novice child, a society, even a generation into cultured, noble, meritorious humans, inasmuch as protecting her subjects and retaining genetical and cultural continuity.

The dharma asserts that the first and foremost criteria for success of a society is that women are accorded the high respect that they rightly deserve. Sings the Yajurveda 6.36, “O Mother! May the society appreciate your potential. May they seek your blessings from east, west, north, south and everywhere. And may you bless them with prosperity and happiness.”

असुनीते पुनरस्मासु चक्षु: पुन: प्राणमिह नो धेहि भोगम् ।
ज्योक्पश्येम सूर्यमुच्चरन्तमनुमते मृळया नः स्वस्ति ॥

asunīte punarasmāsu cakṣu: puna: prāṇamiha no dhehi bhogam ।
jyokpaśyema sūryamuccarantamanumate mṛḻayā naḥ svasti ॥

“O life-giving Mother (asunīti) ! Bless us with eyes that see noble and life that conducts noble actions. May we ever work for progress and enjoy bliss. May we behold the rising sun, make us happy and prosperous, gracious (goddess)”.

– Ṛg Veda 10.59.6

Saptamātṛkās – The 7 Eternal Mothers

It is the privilege of a mother to bring up her children, to mother their distinctive natural gifts. Bringing with her life-sustaining blessings, and giving consciousness (to the unconscious), the mother imparts to the world her wonderful radiance. The Vedas revere the feminine aspect of Divinity by recognising Saptamātṛkās or mātaraḥ, seven sacred mothers who exist in the worldly realm, and directly enrich our lives4


4 ātma-mātā guroḥ patnī brāhmaṇī rāja-patnikā । dhenur dhātrī tathā pṛthvī saptaitā mātaraḥ smṛtāḥ ॥


Ātma-mātā, the biological mother, is the ultimate mother and one’s first guru, who, bearing acute pains, nurtures the child, thus lending an indelible foundation for one’s whole life and consciousness, a debt ever irredeemable. Even the avatārs who took birth from mother’s earthly womb (as yonijā5 ) to relish the tender mellows of playing in the lap of mother6. Śrī Kṛṣṇa, who is illustriously conferred with the title ‘devakīnandana’, the son of mother Devakī, killed demons to rescue her from tragic imprisonment, gave immense love and constantly served her in Dvārikā city.


5 One born from a womb.


6 The divine avatars are birthless, being the supreme, yet they enjoy taking the role of an unassuming child, to relish the mother-child relationship.


Guroḥ-patnī, the wife of spiritual teacher, is deemed the cosmic mother, who bestows motherly care and love, during the child’s learning days. Next mother, Brāhmaṇi, the wife of a Brāhmaṇa, one dedicated to scriptural study and education. She too fosters the noble qualities and spiritual knowledge in students.

During the student days of Śrī Kṛṣṇa at sage Sandīpanī gurukula7, the brothers Balarāma and Kṛṣṇa, as children to their Guru’s wife, obeyed and served her greatly. They went on to revive and bring back her lost child from the jaws of death, searching for him in all realms of universe.


7 The vedic residential school where children lived and learnt from Guru, leaving their homes.


The fourth mother is Rāja-patnī, the wife of the king, she is equally revered as the mother of all subjects. It is in her able leadership and shelter, that the childlike citizens live in wellness.

The fifth mother to us is Dhenū, the cow. Mother cow is extolled as the most propitious Gau Mātā; her very presence exudes motherly calm and relieves all stress. As she gives us the milk to sustain all our life, deeply nourishing our saptadhatus8 , cow to us is verily the mother. In the wish-fulfilling cow, are said to reside all divinities and just the holy sight of her is auspicious. Even her excreta is taken as holy and purifying. Śrī Kṛṣṇa in his earthly sports as Gopāla, the friend and protector of cows, set the greatest precedence to serving and loving cows and the agricultural community. Cows are even taken at par with Upaniṣads – सर्वोपनिषदो गावो दोग्धा गोपालनन्दनः – The Upaniṣads are cows, lord Gopālanandana is the cow milker.


8 As per Āyurveda, Saptadhātus are the seven bodily tissues that provide nourishment to the whole body.


The sixth mother is Dhātrī, the foster or care-taking mother, who affectionately nurses the child. Historically, the Vālmīki Rāmāyaṇa records that Śrī Rāma, though born to mother Kausalyā, was ever more nursed by his co-mother Kaikeyi. Rāma reciprocated her affection for life and when she sent him to the forest, he took it as the greatest service to the mother to abide by her words, without a single sigh or demurral. So also is evident in the life of Śrī Kṛṣṇa for his foster mother Yaśodā and all the motherly cowherd women. Kṛṣṇa gave the greatest joy to all the mothers of Vrindāvana, ever increasing their bliss. Sometimes mother Yaśodā and gopī mothers would tell Kṛṣṇa, “Fetch this or that article”, sometimes they would order him to bring a measuring pot or even dance in barter for a scoop of butter, and child Kṛṣṇa, when thus ordered, would try to fetch and please them.

The seventh mother is Pṛthvī, the earth goddess. In her are found the loving embrace and qualities of all the mothers. Thus, anyone who is deprived of motherly love can find solace in her bosoms by just touching her soils and gardens.

Mother is a relation unlike all. Our consciousness and every other relation originates from our mother. A woman is not the object of a man’s desire, but she is the mother, the maker, the provider and keeper, and the leader. The mother in every woman commands our soleful affection and care, as there is none greater to mother on earth.

नास्ति मातृसमा छाया नास्ति मातृसमा गतिः।
नास्ति मातृसमं त्राणं नास्ति मातृसमा प्रपा॥

nāsti mātṛsamā chāyā nāsti mātṛsamā gatiḥ।
nāsti mātṛsamaṃ trāṇaṃ nāsti mātṛsamā prapā॥

“There is no shade like a mother, no resort-like a mother, no security and savior like a mother, no other ever-giving fountain of life!

– Skanda Purāṇa, Ch 6.103-104

While each day of life is indebted to the mother, may we offer tribute to all our mothers on this day and seek her loving blessings.


We invite you to explore the source vedic books, which are life companions for a spiritual seeker, published by Vedic CosmosThe Guru Gita, the Bhagavad Gita and the Yoga Sutras of Patanjali


मातृत्व – नारी की संपूर्णता

माँता को देवी के रूप में और ईश्वर को माँता का स्वरूप स्वीकार करना वैदिकों की शाश्वत परंपरा का एक अंतर्निहित पक्ष है। वैदिक धर्म का आधार है ‘मातृवत् परदारेषु – सभी नारीयाँ माँता हैं 1 ‘ और ‘मातृ देवो भव 2 – माँता देवता है (जिन्की सेवा करना चाहिये)’। अटूट सनातन परंपराएं एक ब्रह्मांडीय माँता के आदर्श को नमन करती हैं जो निर्मलतापूर्वक हमारी व्यक्तिगत माँता में रूपान्तरित हो जाती हैं। माँ हमें सबसे अमूल्य ‘जीवन, शरीर, बुद्धि’ देने वाली एक निरंतर सूत्र होने के कारण, परमेश्वर प्राप्ति का एक सुगम गर्भनाभ्य (सूत्र) के रूप में भी पूजनीय है।


1 पति-पत्नी युगल् के संबंध भी मातृ स्नेह में एक-दूसरे को प्रेम करने के स्तर तक विकसित होना अपेक्षित है।


2 तैत्तिरीय १.११


संस्कृत में माँता को व्युत्पत्ति के रूप में ‘मातृ’, ‘अम्मा’ या ‘अम्बा’, ‘जननी’ आदि नाम दिये गये है – जो दिव्य माँता या परमेश्वर की अवतरित परम् शक्ति को संदर्भित करता है; ‘ मातृ ‘ का अर्थ वह भी है जो सत्य ज्ञान से परिपूर्ण है। जीवित माँ वस्तुतः मनुष्य के लिए ईश्वर है; यद्यपि मातृत्व एक नारी होने की पूर्ति से संबद्ध है।

वेदों – देवी सूक्त, रात्री सूक्त, ऋग्वेद माँता को सर्वोच्च स्थान देते हैं। दिव्य माँता के स्वरूप में देवता की अराधना कर, न केवल कोमलता, क्षमा, आकाश भाँती व्यापक धैर्य जैसे मातृ गुणों जो परमात्मा की विशेषता माना जाता है, यद्यपि उनकी अथाह कृपा और स्नेह की अप्रतिबंधित रूप से याचना की जाती है।

देवताओं और सृष्टि की माँता

नारी को देवताओं की माँता, ब्रह्मांडीय सृष्टि के गर्भ के रूप में स्वीकार किया जाता है। एक मंदिर में, देवताओं की सजीव मूर्तियाँ को गर्भगृह नामक एक पवित्र-गर्भ स्थान में स्थापित किया जाता है, इस प्रकार मंदिर को स्वयं माँता के स्वरूप माना जाता है, जो उच्चतम जीवन-ऊर्जा का प्राचीन स्रोत है।

वैदिक संस्कृति में संपूर्ण मातृत्व को दैवीय तत्त्व के रूप में उच्च प्रतिष्ठित किया गया है, न केवल माँ को ही पवित्र माना गया है। जीवनदायिनी मातृ शक्ति का प्राचीन वेदों में पुनः पुनः महिमा स्तुतिगान किया गया है, जहाँ जो भी तत्त्व पवित्र, शुद्ध और शक्तिशाली है वें सभी को माँता का परम उपाधी प्रदान है। वें कई आदरसूचकों सहित परिभाषित होती है जैसे अदिति3, देवों, सम्राटों, ऋषियों की माँता; सरस्वती, देवी और दिव्यलौकिक नदी; उषा, प्रातः भोर रूपी माँ और पृथ्वी माँ, धरती माँ के रूप में।


3 अदिति का शाब्दिक अर्थ है ‘असीम, पाश-विमुक्त करने वाली देवी, जो स्नेहवश साधक को सांसारिक माया से मुक्त कराती है।


आपो अस्मान्मातर: शुन्धयन्तु घृतेन नो घृतप्व: पुनन्तु ।
विश्वं हि रिप्रं प्रवहन्ति देवीरुदिदाभ्य: शुचिरा पूत एमि ॥

“हे माताओं! जल (के रूप में) हमें आपकी करुणा, विवेक और ज्ञान से शुद्ध करें; क्‍योंकि देवी स्‍त्रियां हमें हमारे सब पापों और दोषों से शुद्ध करती हैं। हम उनकी धन्य संगति (प्रवाह) से दृढ़, शुद्ध और महान प्रकट होते हैं। ”

– ऋग्वेद १०.१७.१०

क्षत्राय त्वं श्रवसे त्वं महीया इष्टये त्वमर्थमिव त्वमित्यै ।
विसदृशा जीविताभिप्रचक्ष उषा अजीगर्भुवनानि विश्वा ॥

“हे प्रभात उषा माँ! आप हमें वीरता और समाज रक्षा के पथ पर प्रेरित करें; हमें सर्व कल्याण हेतु श्रमसाध्य प्रयास करने और निस्वार्थ धार्मिक कर्म (यज्ञ) हेतु प्रेरित करें। आप हमें धार्मिक प्रयोजनों से सभी हेतु आर्थिक समृद्धि अर्जित करने हेतु ऊषा दें। समाज को ज्ञान से दीप्यमान करने हेतु आप हमें ऊषा दें। ”

– ऋग्वेद, १.११३.६

माता देवानामदितेरनीकं यज्ञस्य केतुर्बृहती वि भाहि ।
प्रशस्तिकृद्ब्रह्मणे नो व्युच्छा नो जने जनय विश्ववारे ॥

“हे देवताओं की माता, अदिति तुल्य, यज्ञ को प्रकाशमान करने वाली, माहन उषा, आप उद्योत रहें; हमारी प्रार्थना का अनुमोदन, हमें ऊषा प्रदान करें । आप, जो सभी की प्रिय हैं, हमें विश्व जन के समक्ष प्रशस्त करें।”

माँ के रूप में नारीत्व

मनोरम रूप से, एक माँता के रूप में नारी की उपाधि न केवल उस नारी को दी जाती है, जो एक शारीरिक शिशु की जननी है, अपितु सामान्य रूप से एक नारी को – यद्यपि वह बालिका हो, किशोरी हो, युवती हो अथवा वृद्धा हो – एक नारी निरंतर स्वीय जीवन में एक माँ के रूप में कार्य करती है जो जननी रूपेण जैविक मातृत्व से परे है। यह वास्तव में एक नारी है जिसमें एक अपरिपक्व बालक, एक समाज, यहां तक कि एक वंश को सुसंस्कृत, महान धार्मि, मेधावी मानवों में परिवर्तित करने हेतु बीज शक्ति अन्तरनिहित है, यहाँ अपने जनों की रक्षा तथा आनुवंशिक और सांस्कृतिक निरंतरता बनाए रखने के लिए।

धर्म इस सिद्धन्त को प्रवाद करता है कि किसी समाज की सफलता के लिए प्रथम और सबसे महत्वपूर्ण मानदंड यह है कि नारीयों को उच्च सम्मान दिया जाय जिनके वे अधिकारी हैं। यजुर्वेद ६.३६ स्तुति करता है, “हे माँता! समाज आपकी क्षमता की स्तुति करे। वे पूर्व, पश्चिम, उत्तर, दक्षिण और हर स्थान से आपका आशीर्वाद याचना करें तथा आप उन्हें समृद्धि एवं सुख का आशीर्वाद दें।”

असुनीते पुनरस्मासु चक्षु: पुन: प्राणमिह नो धेहि भोगम् ।
ज्योक्पश्येम सूर्यमुच्चरन्तमनुमते मृळया नः स्वस्ति ॥

“हे जीवनदायिनी माँता (असुनीते)! हमें उन चक्षुओं का आशीर्वाद दें जो सदाचारीओं को दृष्‍टपात करें और जीवनप्राण जो धार्मिक कर्म करें । हम सदैव प्रगति हेतु काम करें और सुख भोग करें। हम ज्योर्तिमय सूर्य के दर्शन करें, हमें सुखी और समृद्ध बनाएं, कृपालु (देवी)”।

– ऋग्वेद वेद, १०.५९.६

सप्तमातृका – ७ शाश्वत माँताएं

अपने शिशुओं का पालन-पोषण करना एवं उनके विशिष्ट प्राकृतिक गुणों का पोषण करना एक माँता का विशेषाधिकार है। स्वीय जीवनदायी वरदानों से (अचेतन को) चेतना देकर, माँता विश्व को अद्भुत शक्तितेज प्रदान करती है। शास्त्र सप्तमातृकाए या मातरम्, सात पवित्र माताओं4 को पहचानकर देवत्व के स्त्री पहलू का सम्मान करते हैं, जो इस सांसारिक जगत में उपस्थित होती हैं, और प्रत्यक्षतः हमारे जीवन को समृद्ध करती हैं।


4 आत्म-माता गुरोः पत्नी ब्राह्मणी राज-पत्निका । धेनुर् धात्री तथा पृथ्वी सप्तैता मातरः स्मृताः ॥


आत्म-माँता, जैविक माँ, परम माता है और शिशु की प्रथम गुरु है, जो तीव्र पीड़ा सहन करते हुए, शिशु का पालन-पोषण करती है, इस प्रकार पूर्ण जीवन और चेतना हेतु एक अमिट नींव उधार देती है, एक ऋण जिसे कभी भी चुकाया नहीं जा सकता।

यहाँ तक कि अवतार पुरुष भी माँ की अंक में केलि करने कोमल मधुरता का आनंद लेने के लिए माँ के सांसारिक गर्भ (योनिजा5) से जन्म लेने हेतु विवश है6। माँता देवकी के पुत्र ‘देवकीनंदन’ की उपाधि से विभूषित श्री कृष्ण ने उन्हें दुखद कारावास से मुक्ती के लिए असुरो परिजनों का वध किया तथा द्वारिका नगरी में स्वीय माँता को अपार प्रेम दिया और निरंतर उनकी सेवा की।


5 जिन्का जन्म एक गर्भ से हुआ हो।


6 दिव्य अवतार जन्महीन हैं, परमेश्वर होने पर भी वे माँ-बालक के संबन्ध का आनंद लेने हेतु एक मासूम बाल की लीला का आनंद लेते हैं।


गुरु-पत्नि, अर्थात आध्यात्मिक आचार्य या शिक्षक की पत्नी, को ब्रह्मांडीय परम माँ माना जाता है, जो बालक की शिक्षा के दिनों में मातृ देखभाल और प्रेम प्रदान करती है। अगली माँ, ब्राह्मणी, एक ब्राह्मण की पत्नी, जो शास्त्र अध्ययन और शिक्षा के लिए समर्पित है। वह भी छात्रों में महान गुणों और आध्यात्मिक ज्ञान को बढ़ावा देती है।

ऋषि संदीपनी गुरुकुल7 में श्रीकृष्ण के छात्र दिनों में, भ्राता बलराम और कृष्ण, अपने गुरुपत्नी के बालक रूप में, उनकी आज्ञा मानते थे और उनकी श्रेष्ट रूप से सेवा करते थे। उन्होंने ब्रह्मांड के सभी लोकों में गुरुपत्नी के पुत्र की खोज की, तथा पुत्र को मृत्यु के मुख से पुनःजीवित प्राप्त कर, गुरुपत्नी माँ की सेवा की।


7 वैदिक आवासीय विद्यालय जहां बालक गुरु सहित रहते थे और शिक्षा प्राप्त करते थे, स्व गृह त्यागकर।


Tचौथी माँता होती है राज-पत्नि, राजा की पत्नी, वे सभी प्रजा हेतु माता के समान पूजनीय हैं। उनके सक्षम नेतृत्व और आश्रय में ही बाल-समान नागरिक स्वस्थ रहते हैं।

पांचवीं माँता हमारे लिए धेनु गाय है। गौ माता सर्वाधिक कल्याणकारी गौ माँता के रूप में प्रतिष्ठित है; उनकी उपस्थिति ही ममता सूचक है और सभी तनावों को दूर करती है। जिस प्रकार वह हमें जीवन परयन्त पालने के लिए दूध देती है, हमारी सप्तधातुओं8 को आन्तरिक पोषण देती है, हमारे लिए गाय वास्तव में माँता है। यह मान्यता है कि मनोकामना पूर्ति करने वाली धेनु में सभी देवों का वास है और उनके दर्शन मात्र ही शुभ होता है। यहां तक कि उसके मल को भी पवित्र और शुद्ध माना जाता है। गोपाल के रूप में श्रीकृष्ण ने सांसारिक लीलाओं में, गायों के मित्र और रक्षक, गायों और कृषि समुदाय की सेवा और प्रेम करने के लिए सर्वव्याप्त गौपालन संस्कार सिद्ध किए है। गायों को उपनिषदों के समान माना जाता है – सर्वोपनिषदो गावो दोग्धा गोपालनन्दनः – उपनिषद गौ माँता हैं, भगवान गोपालनंदन ग्वाले हैं।


8 आयुर्वेद के अनुसार, सप्तधातु सात शारीरिक ऊतक हैं जो पूरे शरीर को पोषण प्रदान करती हैं।


छठी माँता धात्री है, पालन-पोषण करने वाली माँ या एक उपचारिका, जो स्नेह पूर्वक बालक का पालन-पोषण करती है। ऐतिहासिक रूप से, वाल्मीकि रामायण मे प्रमाणित है कि श्रीराम, यद्यपि माँता कौसल्या से जन्मे, उनकी सह- माँता कैकेयी द्वारा कभी भी वे अधिक पोषित थे । राम ने कैकेयी के प्रति अपने स्नेह का प्रतिदान किया और जब माँ ने उन्हें वनगमन आज्ञा प्रदान की, तो उन्होंने बिना एक भी आह या वाद-विवाद के, कैकेयी माँ के वचनों का पालन करने के लिए माँ की सबसे माहन सेवा रूप में स्वीकार किया। यह श्रीकृष्ण के जीवन में उनकी पालक धात्री यशोदा माँ और सभी गोपी माँता के लिए भी स्पष्ट है। कृष्ण ने वृंदावन की सभी माँताओं को सर्वाधिक आनंद दिया, उनके आनंद को सदा बढ़ाते हुए। कभी-कभी यशोदा माँ और गोपी माँताएँ कृष्ण से कहती थीं, “यह वस्तु या वह वस्तु लाओ”, कभी-कभी वे उन्हें एक मापने वाला बर्तन लाने या मक्खन के लिए वस्तु विनिमय में नृत्य करने का आदेश देती थी, तथा बाल कृष्ण, जब इस प्रकार आदेशित होते थे, उन्हें प्रसन्न करने का प्रयत्न करते थे।

सातवीं माँता पृथ्वी देवी हैं। उनमें सभी माताओं के स्नेहपूर्ण आलिंगन और गुण पाए जाते हैं। इस प्रकार, जो कोई भी मातृ प्रेम से वंचित है, वह केवल उनकी मिट्टी और उद्यानों को स्पर्शक उनके अंक में आराम प्राप्त कर सकता है।

माँता एक सब से भिन्न संबंद्ध है। हमारी चेतना और अन्य सभी संबंध हमारी मां से उत्पन्न होते हैं। एक नारी पुरुष की वासना की वस्तु नहीं है, यद्यपि वह माँ, निर्माता, प्रदाता तथा रक्षक और नेता है। प्रत्येक नारी में माँ हमारे एकमात्र स्नेह और देखभाल की अधिकारी है, क्योंकि पृथ्वी पर माँ से बढ़कर कोई नहीं है।

नास्ति मातृसमा छाया नास्ति मातृसमा गतिः।
नास्ति मातृसमं त्राणं नास्ति मातृसमा प्रपा॥

” माँता के समान कोई छाया नहीं, माँता के समान कोई गति (सहारा) नहीं, माँता के समान कोई सुरक्षा और रक्षक नहीं, अन्य कोई शाश्वत जीवन-स्रोत नहीं!

– स्कंद पुराण, अध्याय ६.१०३-१०४

यद्यपि जीवन का प्रत्येक दिवस माँ के प्रति ऋणी होता है, हम इस दिन अपनी सभी माताओं को श्रद्धांजलि अर्पित करें और उनका स्नेह परिपूर्ण आशीर्वाद प्राप्त करें।


We invite you to explore the source vedic books, which are life companions for a spiritual seeker, published by Vedic CosmosThe Guru Gita, the Bhagavad Gita and the Yoga Sutras of Patanjali


259 Views

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.