Posted on Leave a comment

The Festival of Illuminating Sun, Pongal or Samkranti

From eternity, the Sun has been the effulgent centre of the universe and life. All the four Vedas sing that the Sun or Surya is the physical manifestation of the Supreme or pratyakṣa brahman and the creator and preserver of the material universe (prakṛti).In the Purāṇic texts, observances of sacrifices, rituals, vows and festivals are found in devotion to the Sun god, who is the source of life. The immense potency of the Sun deity was observed by the Purāṇic people, who propitiated the deity giving it vital prominence. The festival that honours the luminous Sun god in all its grandeur is Pongal or Makara Saṃkrānti. During this festival, the Sun’s rays are spiritually charged with highest spiritual energy, intelligence (caitanya) making the environment conducive for highest wellbeing and healing. Each year in the mid-month of January, India welcomes the bright Sun rays, the abundance from soils, the colour-filled skies with festive cheer, delight in hearts, and delicious sweets.

Pongal or Thai Pongal is a major Hindu harvest festival of South India, observed at the start of the auspicious Thai month according to the solar calendar1. It is dedicated to the Sun deity, Surya and corresponds to the grand harvest festival of Makara Saṃkrānti, also called Uttarāyaṇa Puṇyakālam, celebrated throughout India offering gratitude to Sun, Nature and to invite agricultural abundance. Celebrated over multiple days, the Pongal festivals are called Bhogi Pongal, Surya Pongal and Māttu Pongal.


1 The festival is celebrated normally on the 14th or 15th January every year as per Vedic calendar.


Interestingly, the word ‘Pongal’, derived from Tamil literature, literally means ‘to boil’, also implying the name of a rice-based milk sweet dish, which is ceremoniously prepared for this festival. A ritualistic, seasonal and cultural observance, the festival has origins from ancient times and has mentions in Tamil Sangam literature.

According to Vedas and ancient astrology (Surya Siddhānta), the Pongal or Makara Saṃkrānti2 festival is a very auspicious time (puṇyakālam), as it marks the initiation of the Sun’s movement towards the North for a six-month period cruising through till summer solstice, called the Uttarāyaṇa. It is deemed auspicious as opposed to the southward movement of the sun (or Dakṣiṇāyāṇa). It signifies the sacred event when the Sun enters the tenth house of Raśi or zodiac sign Capricorn (or Makara) during the Pauśa month, thus called by the name Makara Saṃkrānti. It also marks the awakening of divine beings after a six-month long night (as per celestial calculation). From this day, the Sun deity is said to leave his displeasures and move towards higher abodes, illuminating the universe with spiritual strength.


2 In Sanskrit, Saṃkrānti means the actual passage of Sun from one sign to another.


Historic Glory of Makara Saṃkrānti

Lord Kṛṣṇa in the Bhagavad Gītā, glorifies the eminence of the auspicious Uttarāyaṇa.

अग्न‍िर्ज्योतिरह: शुक्ल‍ः षण्मासा उत्तरायणम् ।
तत्र प्रयाता गच्छन्ति ब्रह्म ब्रह्मविदो जना: ॥ २४ ॥

agnairjyotiraha: śuklaḥ ṣaṇmāsā uttarāyaṇam ।
tatra prayātā gacchanti brahma brahmavido janāḥ ॥ 24 ॥

“Those who know the Supreme (brahman) attain that Supreme by passing from the world during the influence of the fiery god, in the light, at an auspicious moment of the day, during the fortnight of waxing moon, or during (Uttarāyaṇa) the six-months when the sun travels in the north.”

As per the Mahābhārata, recognizing the glory of the Uttarāyaṇa time, the great soul Bhīṣma Deva, the grandsire of Pānḍavas lay on the bed of arrows persisting his life breath for days awaiting the sacred hour of the northward movement of Sun, and chose to leave his body, thus attaining the Supreme abode. Various spiritual beings too have utilised this sacred time to perform auspicious activities or to ascend to higher realms.

When the Sun moves north, it brings various positive events in human life. As the duration of day and the heat of the Sun is said to increase, the Sun transmits more strength, progress, agility and power to humans. The ancient mystics thus have been celebrating the sunrise of Uttarāyaṇa period as embodiment of light and energy permeating all life.

The Exuberant Pongal Festivities

Spread across three days, the various festivities of Pongal unite human life with Nature, and are deeply connected with soil and cattle, celebrating Nature’s fresh bounty, which nourishes all life. An early morning ritualistic bath in a sacred waterbody along with sun-worship is obligatory and special charity and gifts (of nature) are shared abundantly.

The first day is marked by a special worship, performed by harvesting of the paddy. The farmers worship the mother earth by smearing their ploughs and sickles with sandalwood and turmeric paste. The first day is to bond with family and soil, and is known as Bhogi Pongal (also the last day of the Tamil month Marghazi). Old possessions are discarded and new ones welcomed, signifying that human life is deeply aligned with the change of seasons and the earth. In a ceremony called Bhogi Pallu, seasonal fruits of the harvest such as sugarcane are collected along with flowers of the season.

The second day is dedicated to the worship of Surya, the Sun god called the Surya Pongal (or Perum Pongal). On this day the ceremonial boiled milk with jaggery (cane sugar) called Pongal sweet dish is traditionally cooked in an anointed earthen pot (tied with sacred herbs and leaves) over a new lit fire, under the sunlight, usually at open spaces (a field, porch or courtyard) – thus through this simple cultural cooking the earth, the sun and fire are all worshipped. Relatives and friends are invited, and the homes joyously rebound with the standard greetings of the Pongal day, “Has the rice boiled?” Pongal dish (or sakkara pongal) thus prepared along with many other courses from seasonal crops and foods are offered to the Sun God and goddess Pongai (Devi). This truly sweet ceremony marks the festival and is then graciously shared with cattle, family and distributed in temples, spreading nectar to all. As per Ayurveda too, sesame seeds, jaggery and khichdi (savoury rice dish) made with freshly harvested crops and spices are to be consumed and shared. Saṃkrānti festival and sesame (or til) are synonymous as the festival is also commonly known as ‘Til Saṃkrānti’. The highly potent sesame seeds (mixed in jaggery) have the ability to absorb negativity and increase the sattva tattva or the purity, goodness, and harmony, which in turn facilitates spiritual upliftment and well-being.

Thus reaffirming the truth that Nature’s gifts through crops, the milk gifted through cattle, the cooking fire, the sun and seasons — all are indeed the true abundance and wealth a family or community needs for a fulfilled life.

The third day, Mattu Pongal is the day for worshipping the cattle. The cattle who selflessly serve by tending to crops and providing dairy and livelihood, are bathed and cleaned – their horns are polished with bright colours and they are garlanded with flowers and anointed with sacred pastes. Homes, towns and fields are cleaned, freshly painted and decorated while various rice-flour based kolam artworks are seen decorating the earth like a bride at the home fronts and temples. Freshness of passing winter, welcoming of spring, cruising of the Sun northward – all these are celebrated by adorning fresh vibrant clothes, by offering prayers at home, temples, and getting together with family and friends, and exchanging gifts of nature to renew social bonds of solidarity. Spiritually, the Pongal marks the elevation of the soul upwards and renewed human progress.

As an expression of joy and social bonds, the Makara Saṃkrānti festivities include the kite flying sport. Kite flying symbolises freedom and control, and has been a metaphor in classical Indian literature, poetry and folklore. The culture of kite flying and fighting provide a colourful backdrop to the celebration. The buying of kites, preparations in the kitchen and the rooftop wars all form a part of this colourful festival.

Thus, the Pongal or the Makara Saṃkrānti festival honours the complete cycle of Nature’s ecosystem and reminds us to return to living in harmony with Nature, while its ceremonies are a living proof of revering India’s culture, crops and climate. Such traditions bestow health, wellbeing, cultural and community bonds in unison with sacred elements of nature. The uniqueness of the festival revives the importance of natural resources, especially when the world is battling environmental change.

The most primordial and potent mantra dedicated to the Sun God Savita is the 24-syllabled Gayatri Mantra from the Ṛg Veda (3.62.10) and Yajur Veda (36.3). This mantra is therefore often referred to as “the mother of the Vedas”, which invokes the grace, power and wisdom of the Sun god. The seers chant this mantra three times in the day (during Sandhyā3).


3 Sandhyā is the sacred time when the night meets the dawn, mid-day and when day meets the night. This time is to be dedicated to spiritual practises and meditation.


ॐ भूर्भुव: स्व: तत्सवितुर्वरेन्यं । भर्गो देवस्य धीमहि धियो
यो न: प्रचोदयात् ।।

auṃ bhūrbhuvaḥ svaḥ tatsaviturvarenyaṃ । bhargo devasya dhīmahi dhīyo yo naḥ pracodayāt ।।

“Oh Supreme! You are the giver of vital life,
The remover of sufferings,
The bestower of happiness,
Oh! Creator of the Universe, bright as Sun (savita),
May we receive your supreme sin-destroying illumination,
May You (Sun god) guide and awaken our spiritual intelligence (in the right direction.)”

We invite you to explore the source vedic books, which are life companions for a spiritual seeker, published by Vedic CosmosThe Guru Gita, the Bhagavad Gita and the Yoga Sutras of Patanjali

पोंगल या संक्रांति,दीप्तिमान सूर्य का पर्व

अनंत काल से, सूर्य ब्रह्मांड एवं जीवन का तेजोमय केंद्र रहा हैं । चारों वेद मन्त्रगान करते हैं कि सूर्य या आदित्य परमात्मा या प्रत्यक्ष ब्राह्मण के प्रत्यक्ष अभिव्यक्ति है एवं भौतिक ब्रह्मांड (प्रकृति) के निर्माता एवं संरक्षक हैं।

पौराणिक ग्रंथों में जीवन के स्रोत, सूर्य देव की भक्ति में यज्ञों, कर्मकांडों, व्रतों एवं उत्सवों के पालन का उल्लेख मिलता है। सूर्य देवता की अपार शक्ति को पुराणिक जनों ने प्रत्यक्ष दर्शन किया, जिन्होंने सूर्य देवता को महत्वपूर्ण दिव्यता का प्राथमिक अनुरूप मानते हुए सुप्रसन्न किया। पोंगल या मकर संक्रांति वह उत्सव है जो दीप्तिमान सूर्य देवता को उनकी सर्वभव्यता में सम्मानित करता है। इस उत्सव काल में सूर्य की किरणें आध्यात्मिक रूप से उच्चतम ऊर्जा, बुद्धि (चैतन्य) से परिपूर्ण होती हैं, जिससे वातावरण परम कल्याण एवं उपचार के लिए अनुकूल होता है। प्रत्येक वर्ष जनवरी माह के मध्य में, भारतवर्ष में उज्ज्वल सूर्य की किरणों का, धरती से धन-धान्य सम्पत्ति का, रंगों से परिपूर्ण गगन का, तथा स्वादिष्ट रुचिकर मिष्ठान्नों का उत्सवमय उत्साह एवं हृदयों में प्रसन्नता सहित स्वागत करता है।

पोंगल या थै पोंगल दक्षिण भारत का एक प्रमुख हिंदू फसल उत्सव है, जो सौर पंचांग के अनुसार शुभ थै के आरंभ में उत्कीर्तित मनाया जाता है1.। यह सूर्य देवता, सूर्य को समर्पित है एवं मकर संक्रांति2 के भव्य फसल उत्सव के नाम से भी सुविख्यात है, जिसे उत्तरायण पुण्यकालम् भी कहा जाता है — जिसे पूरे भारत में सूर्य तथा प्रकृति को कृतज्ञता व्यक्त करने एवं कृषि बहुतायत को आमंत्रित करने के लिए मनाया जाता है। कई दिनों तक मनाए जाने वाले पोंगल उत्सवों को भोगी पोंगल, सूर्य पोंगल एवं माट्टू पोंगल कहा जाता है।


1 यह उत्सव वैदिक कैलेंडर के अनुसार हर साल 14 या 15 जनवरी को मनाया जाता है।


2 संस्कृत में, संक्रांति का अर्थ है सूर्य का एक राशि से दूसरी राशि में गमन करना।


मनोरंजक बात यह है कि तमिल साहित्य से व्युत्पन्न ‘पोंगल’ शब्द का अर्थ है ‘उबालना’, जिसका अर्थ चावल पर आधारित दूध के मिष्ठान्न व्यंजन भी है, जिसे इस उत्सव के लिए औपचारिक रूप से पकाया जाता है। एक शास्त्रविधि वत, ऋतु-संबंधी एवं सांस्कृतिक उत्सव की उत्पत्ति प्राचीन काल से हुई है एवं इस का तमिल संगम साहित्य में उल्लेख है।

वेदों एवं प्राचीन ज्योतिष शास्त्र (सूर्य सिद्धांत) के अनुसार, पोंगल या मकर संक्रांति उत्सव एक अति शुभ काल (पुण्यकालम) है, क्योंकि यह ग्रीष्म संक्रांति तक छह-माह की अवधि के लिए उत्तर की ओर सूर्य की गति के आरंभ को दर्शाता है जिसे ‘उत्तरायण’ काल कहा जाता है। इसे सूर्य के दक्षिण की ओर गति (या दक्षिणायन) के विपरीत शुभ माना जाता है। यह पवित्र घटना का प्रतीक है यथा सूर्य पौष मास के काल में राशि के दसवें घर मकर में प्रवेश करता है, यथा इसे मकर संक्रांति कहा जाता है। यह छह-माह की लंबी रात (दिव्यलोक गणना के अनुसार) के उपरान्त देवी-देवताओं के पुनःजागरण को भी दर्शाता है। यह मान्यता है कि इस दिवस से सूर्य देवता स्वीय अप्रसन्नता का त्यागकर, आध्यात्मिक उर्जा के सहित ब्रह्मांड को ज्योतिमय करते हुए, उच्च लोक की ओर प्रस्थान करते हैं।

मकर संक्रांति की ऐतिहासिक महिमा

भगवद गीता में भगवान कृष्ण, शुभ ‘उत्तरायण’ काल का महिमा गान करते हैं।

अग्न‍िर्ज्योतिरह: शुक्ल‍ः षण्मासा उत्तरायणम् ।
तत्र प्रयाता गच्छन्ति ब्रह्म ब्रह्मविदो जना: ॥ २४ ॥

“जो ब्रह्मन् के ज्ञाता हैं, वे अग्न‍ि देव के प्रभाव में, ज्योंति में, दिन के शुभ काल में, शुक्ल पक्ष काल में, या उत्तरायण काल (छह-माह सूर्य की उत्तर यात्रा) में जगत त्यागते हुए उस ब्रह्मन् को प्राप्त करते हैं ।”

महाभारत के अनुसार, उत्तरायण काल की महिमा को शिरोधार करते हुए, महात्मा भीष्‍म देव, पांडवों के पितामह, सूर्य के उत्तर की ओर गति अर्थात् उत्तरायण के पवित्र काल की प्रतीक्षा में कई दिनों तक स्वीयप्राण को बनाए रखते हुए, बाणों की शय्या पर लेटे थे, एवं उत्तरायण में प्राण त्यागने का चयन किया, इस प्रकार वे परम् धाम को प्राप्त हुए थे। विभिन्न आध्यात्मिक जनों ने भी इस पवित्र काल का उपयोग शुभ कार्यों को करने या उच्च लोकों पर गमन करने के लिए यथावत् किया है।

जब सूर्य उत्तर की ओर गमन करता है (उत्तरायण), तो यह मानव जीवन में विभिन्न सकारात्मक घटनाएँ लाता है। जैसे-जैसे दिन की अवधि एवं सूर्य के ताप में वृद्धि होती है, सूर्य मनुष्यों को अधिक बल, प्रगति, स्फूर्ति एवं शक्ति का संचार करता है। इस प्रकार प्राचीन मनीषी उत्तरायण काल के सूर्योदय को पूर्ण जीवन में व्याप्त प्रकाश एवं ऊर्जा के अवतार के रूप में मनाते रहे हैं।

उल्लासपूर्ण पोंगल उत्सव

तीन दिवसीय पोंगल के विभिन्न उत्सव मानव जीवन को प्रकृति के साथ जोड़ते हैं, तथा माटी एवं पशुजाति के साथ गहराई से जुड़े हुए हैं – प्रकृति क ताजा उपज का उत्सव जो संपूर्ण जीवन का पोषण करता है। सूर्य-पूजा के साथ एक पवित्र जल में प्रातः अनुष्ठानिक स्नान अनिवार्य है एवं विशेष (प्रकृति के) दान तथा उपहार बहुतायत से प्रदान किए जाते हैं।

पोंगल के प्रथम दिवस को एक विशेष पूजा द्वारा चिह्नित किया जाता है, जिसे धान की कटाई के द्वारा संपन्न किया जाता है। किसान अपने हल और दरांती को चंदन एवं हल्दी के लेप लगाकर धरती मां की पूजा करते हैं। पहला दिन परिवार एवं मिट्टी के साथ बंधन का होता है, तथा इसे भोगी पोंगल (तमिल माह मार्गाज़ी का अंतिम दिन) के रूप में जाना जाता है। पुरानी संपत्ति-वस्त्र आदि को त्याग दिया जाता है एवं नवीन वस्तुओं का स्वागत किया जाता है, जो यह दर्शाता है कि मानव जीवन ऋतुओं एवं पृथ्वी के परिवर्तन के साथ गहराई से जुड़ा हुआ है। भोगी पल्लू नामक एक समारोह में, फसल के ऋतु-संबंधी फल जैसे गन्ना को ऋतु के फलों-फूलों के साथ एकत्र किया जाता है।

पोंगल का दूसरा दिवस सूर्य की पूजा के लिए समर्पित है, सूर्य देवता जिसे सूर्य पोंगल (या पेरुम पोंगल) कहा जाता है। इस दिन औपचारिक रूप से उबले हुए दूध को गुड़ (गन्ना चीनी) के साथ पोंगल नामक मीठा व्यंजन, जिसे पारंपरिक रूप से एक अभिषिक्त माटी के पात्र में (पवित्र जड़ी बूटियों और पत्तियों से बंधा हुआ) नई जलाई अग्नि पर, साधारणता खुले स्थानों (एक खेत, बरामदा या आंगन) में पकाया जाता है। इस प्रकार इस साधारण सांस्कृतिक भोज पकाने के माध्यम से पृथ्वी, सूर्य एवं अग्नि सभी की पूजा की जाती है। संबन्धियों एवं शुभचिन्तकओं को आमंत्रित किया जाता है, एवं पोंगल के दिन की मानक बधाई के साथ घरों में प्रसन्नता का पुनःआगमन होता है, “क्या पोंगल उबल गया हैं?” पोंगल पकवान (या सक्कर पोंगल) इस प्रकार ऋतु फसलों और खाद्य पदार्थों के कई अन्य पाठ्यक्रमों के साथ तैयार किया जाता है, जो सूर्य देव एवं देवी पोंगई को अर्पित किया जाता है। वास्तव में यह मीठा समारोह उत्सव का प्रतीक है और फिर इस अमृत रूपी पोंगल को पशुओं एवं परिवार को प्रदान किया जाता है और मंदिरों में प्रसाद भी वितरित किया जाता है। आयुर्वेद के अनुसार भी, तिल, गुड़ एवं खिचड़ी (स्वादिष्ट अन्न का व्यंजन) को ताजी कटी हुई फसलों एवं मसालों से बनाया गया अन्न का सेवन तथा साझा करना चाहिए। संक्रांति उत्सव और तिल पर्यायवाची हैं क्योंकि आमतौर पर उत्सव ‘तिल संक्रांति’ के नाम में भी जाना जाता है। अत्यधिक शक्तिशाली (गुड़ में मिश्रित) तिल में नकारात्मकता को अवशोषित करने एवं सत्व तत्व या शुद्धता, सत्य और सद्भाव को बढ़ाने की क्षमता होती है, जो आध्यात्मिक उत्थान तथा अनुकूल स्वास्थ्य प्रदान करते है।

इस प्रकार इस सत्य की पुष्टि करते हुए कि फसलों के माध्यम से प्रकृति के उपहार, पशुओं के माध्यम से दिया गया दूध, अन्न पकाने की अग्नि, सूर्य और ऋतुएं – सभी वास्तव में सत बहुतायत एवं समृद्धि धन हैं जो एक परिवार या समुदाय को संपूर्ण जीवन के लिये आवश्यक होते है।

तीसरा दिन, माट्टू पोंगल पशुजाति की पूजा का दिन है, जिसे माट्टू के नाम से भी जाना जाता है। जो पशु निःस्वार्थ भाव से फसलों का संरक्षण करते हैं एवं दुग्धशाला और आजीविका प्रदान करते हैं, उन्हें स्नान एवं शुद्ध किया जाता है – उनके सींगों को चमकीले रंगों से परिमार्जन किया जाता है तथा उन्हें फूलों की माला पहनाई जाती है, तथा पवित्र लेपों से अभिषेक किया जाता है। घरों, नगरों और खेतों की शुद्धीकरण किया जाता है, नए लेपों से रंगा एवं सजाया जाता है, जबकि चावल-आटे के विभिन्न कोलम कलाकृतियां घर के आंगन एवं मंदिरों को दुल्हन की तरह धरती को सजाती हुई दिखाई देती हैं। गुज़रती सर्दी की ताज़गी, वसंत का स्वागत, सूर्य का उत्तर की ओर परिभ्रमण – इन सबका उत्सव ताज़ा जीवंत वस्त्रों को पहनकर, घर, मंदिरों में पूजा-अर्चना करके, और परिवार एवं मित्रों सहित मिलकर, तथा सामाजिक बंधनों को नवीनीकृत करने के लिए प्रकृति के उपहारों का आदान-प्रदान करके मनाया जाता है। आध्यात्मिक रूप से, पोंगल आत्मा को ऊपर की ओर अग्रसर एवं मानव प्रगति को नवीनीकृत करने का प्रतीक है।

इस प्रकार, पोंगल या मकर संक्रांति भाग उत्सव प्रकृति के पारिस्थिति की तंत्र के पूरेचक्र का सम्मान करता है तथा हमें प्रकृति के साथ सद्भाव में रहने के लिए पुनः स्मरण दिलाता है, जबकि इसके समारोह भारत की संस्कृति, फसलों एवं जलवायु के प्रति सम्मान का एक जीवंत प्रमाण हैं। इस प्रकार की परंपराएं प्रकृति के पवित्र तत्वों के साथ मिलकर स्वास्थ्य, सद्भाव, सांस्कृतिक तथा सामुदायिक बंधन प्रदान करती हैं। उत्सव की विशिष्टता प्राकृतिक संसाधनों के महत्व को पुनर्जीवित करती है, विषेशतः जब जगत पर्यावरण परिवर्तन से संघर्श कर रहा है।

सूर्य देव सविता को समर्पित सबसे प्रमुख एवं शक्तिशाली मंत्र ऋग्वेद (३.६२.१०) एवं यजुर्वेद (३६.३) से २४ अक्षरों वाला गायत्री मंत्र है। इसलिए इस मंत्र को अक्सर “वेदों की माँता” के रूप में जाना जाता है, जो सूर्य देव की कृपा, शक्ति एवं ज्ञान का आह्वान करता है। द्रष्टा इस मंत्र का दिन में तीन बार (संध्या काल में 3) जाप करते हैं।


3 संध्या वह पवित्र काल है जब रात को भोर, मध्याह्न और जब दिन रात से मिलता है। यह काल साधना एवं ध्यान के लिए समर्पित है।


ॐ भूर्भुव: स्व: तत्सवितुर्वरेन्यं । भर्गो देवस्य धीमहि धियो
यो न: प्रचोदयात् ।।

“हे प्रकाशमान देव! आप जीवन के दाता हैं,
दुःखों को हरने वाले,
सुख के दाता,
हे ब्रह्मांड के निर्माता, सूर्य (सविता) के रूप में उज्ज्वल,
हम आपका परम पाप नाश करने वाला प्रकाश प्राप्त करें,
आप (सूर्य देव) हमारी आत्मिक बुद्धि (सत् दिशा में) प्रेषित एवं जागृत करें।”


We invite you to explore the source vedic books, which are life companions for a spiritual seeker, published by Vedic CosmosThe Guru Gita, the Bhagavad Gita and the Yoga Sutras of Patanjali


43 Views

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.